Agriculture in Singrauli | सिंगरौली जिले में कृषि उत्पाद

0
240
Agriculture in Singrauli

Agriculture in Singrauli District | Crops cultivated in Singrauli Dist.

सिंगरौली जिले में कृषि उत्पाद एवं कृषि व्यवस्थाएं 

सिंगरौली मध्य भारत में स्थित मध्य प्रदेश का एक जिला है,जो कोयले जैसे खनिज संसाधनों के लिए जाना जाता है, परन्तु इस जिले में कृषि भी एक महत्वपूर्ण आर्थिक गतिविधि है। सिंगरौली जिले में कृषि मुख्यतः वर्षा आधारित है और यहाँ प्रमुख रूप से धान, गेहूं, सोयाबीन, मक्का और दालों जैसी फसलों की खेती की जाती है। सिंगरौली जिले में महुआ का भी उत्पादन काफी होता है।

सिंगरौली में खेती कैसे होती है | Methods of Farming in Singrauli District. 

सिंगरौली के किसान कृषि को पारंपरिक और आधुनिक दोनों तरीकों का उपयोग करते हैं, जिसमें कई छोटे और सीमांत किसान जैविक खाद और पारंपरिक बीजों के उपयोग जैसी पारंपरिक प्रथाओं पर निर्भर हैं। हालाँकि, सरकार और अन्य संगठन इस क्षेत्र में कृषि के आधुनिक और वैज्ञानिक तरीकों को बढ़ावा दे रहे हैं, जिसमें हाइब्रिड (Hybrid) बीजों का उपयोग, सिंचाई और मशीनीकरण शामिल हैं।सिंगरौली जिले में कई ट्रेक्टर (Tractor Agencies) अजेंन्सी भी हैं, जहाँ से किसान बैंक ऋण लेकर अपनी खेती को आसान बना रहे हैं।

List of Tractor Agencies in Singrauli Dist | सिंगरौली जिले में स्थित ट्रेक्टर डीलर

Yes Motors – Powertrac Tractors , MAIN ROAD KACHNI WAIDHAN

Agrawal Motors – Massey Ferguson , Rewa Road, Waidhan

ARYAN MOTORS – Sonalika Tractors ,  MAIN ROAD ,BILOJI ,WAIDHAN

RAVI TRADERS – Eicher Tractors , Kachani Mod, Sarai Road, Kachani

MAA VAISHNO TRACTORS – Mahindra Tractors, Shop No.05,Near Chauhan Cold Storage

Shahwal Agency – Solis Tractors , Sahwal Agency, Main Road Kachani,

 

Agriculture Research in Singrauli Dist | सिंगरौली जिले में कृषि योजनाएं 

सिंगरौली में कई सरकारी कृषि अनुसंधान संस्थाएं भी हैं , जैसे कि भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) का क्षेत्रीय अनुसंधान केंद्र, जो की ऐसी नई और बेहतर फसल की किस्मों के विकास पर शोध करता है जो स्थानीय कृषि के लिए अनुकूल हैं।

हाल के वर्षों में, मध्य प्रदेश सरकार ने भी इस क्षेत्र में कृषि को बढ़ावा देने के लिए कई पहल शुरू की हैं, जैसे कि मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना, जो किसानों को फसल की खेती और अन्य कृषि गतिविधियों के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करती है। इसके अतिरिक्त, सरकार ने किसान उत्पादक संगठनों (एफपीओ) की भी स्थापना की है ताकि क्षेत्र में छोटे और सीमांत किसानों को बाजारों तक पहुंचने और उनकी उपज के लिए बेहतर मूल्य प्राप्त करने में सहायता मिल सके।

Click here to Visit Singrauli Vigyan Kendra Website

Agriculture Schemes in Singrauli Dist | सिंगरौली जिले में कृषि योजनायें 

मध्य प्रदेश सरकार ने कृषि को बढ़ावा देने और क्षेत्र में किसानों की मदद करने के लिए सिंगरौली जिले में कई कृषि योजनाएं शुरू की हैं। कुछ प्रमुख योजनाओं में शामिल हैं:

1.मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना, सिंगरौली :

मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना किसानों को फसल की खेती और अन्य कृषि गतिविधियों के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करती है। इस योजना के तहत, किसान 10000 रुपये प्रति एकड़ तक का ब्याज मुक्त ऋण प्राप्त कर सकते हैं।

2.प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना,सिंगरौली :

सिंगरौली में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना एक फसल बीमा योजना है जो किसानों को प्राकृतिक आपदाओं, कीटों या बीमारियों के कारण फसल के नुकसान की स्थिति में वित्तीय सहायता प्रदान करती है उनके नुक्सान की भरपाई करती है।

3.मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना,सिंगरौली :

मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना का उद्देश्य 2022 तक राज्य में किसानों की आय को दो गुना करना है। इस योजना के तहत, किसानों को उन्नत बीज, उर्वरक, सिंचाई सुविधाओं और तकनीकी मार्गदर्शन सहित कई प्रकार की सहायता एवं सेवाएँ प्रदान की जाती हैं।

4.मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना,सिंगरौली :

मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना  किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) और उनकी फसलों के बाजार मूल्य के बीच अंतर की पेशकश करके मूल्य समर्थन तंत्र प्रदान करती है। इससे किसानों को उनकी उपज का उचित मूल्य प्राप्त करने में मदद मिलती है और बाजार में उतार-चढ़ाव के समय उनके जोखिम को कम करता है।

5.सिंगरौली में कृषि उपज रहन ऋण योजना: 

यह योजना किसानों को कृषि उपज के भंडारण के लिए ऋण प्रदान करती है ताकि उन्हें भविष्य में भी उनकी फसलों की बेहतर कीमत मिल सके।

इन योजनाओं के अलावा, मध्य प्रदेश सरकार ने छोटे और सीमांत किसानों को बाजारों तक पहुंचने और उनकी उपज के लिए बेहतर मूल्य प्राप्त करने में सहायता करने के लिए क्षेत्र में किसान उत्पादक संगठनों (एफपीओ) की भी स्थापना की है। इन पहलों का उद्देश्य टिकाऊ कृषि पद्धतियों को बढ़ावा देना और सिंगरौली जिले में किसानों की आय में वृद्धि करना है।

— singraulify के लिए , | कौशल |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here